हाशिया

बीच सफ़हे की लड़ाई

जब ज़मीन पक रही थी : लालगढ़ से लौटकर एक रिपोर्ट

Posted by Reyaz-ul-haque on 7/05/2009 03:05:00 PM

लालगढ़ से लौट कर रेयाज़ उल हक

अब कादोशोल के गोपाल धवड़ा को शाम ढ़लने के बाद अपने मवेशियों को जंगल में खोजने जाने से पहले सौ बार सोचना पडेगा. सिजुआ की पांचू मुर्मू को सुबह शौच के लिए जाना पहले जितना ही आतंक से भर देने वाला काम होगा. मोलतोला के दिलीप को फिर से स्कूल जाने में डर लगेगा. 17 जून के बाद लालगढ़ में सीआरपीएफ़, पुलिस और हरमादवाहिनी के घुसने के साथ ही सात महीने से चला आ रहा पुलिस बायकाट खत्म हो गया. और इसी के साथ लालगढ़ के लोगों के शब्दों में उनके पुराने दिन शायद फिर से लौट आये हैं, पुलिसिया जोर-ज़ुल्म के, गिरफ़्तारियों के, यातना भरे वे दिन, जब…

लालगढ़ के रास्तों पर फिर से पुलिस और अर्धसैनिक बलों की गाडि़यां दौड़ने लगी हैं. थाने फिर से आबाद हो गये हैं. स्कूलों, पंचायत भवनों और अस्पतालों में पुलिस और अर्धसैनिक बलों के डेरे लग गये हैं. लालगढ़ में पहले भी बाहरी लोगों के जाने पर रोक थी, लेकिन तब भी पत्रकार और बुद्धिजीवी, छात्र आदि जा सकते थे, राज्य के शब्दों में ‘आतंकवादी’ माओवादियों के नियंत्रणवाले लालगढ़ में क्या हो रहा है, यह जो देखना चाहे उसकी आंखों के सामने था. लेकिन अब सरकार के नियंत्रण में आने के बाद लालगढ़ में क्या हो रहा है, किसी को नहीं पता. वहां जाने पर अब पूरी पाबंदी है. लालगढ़ में ‘लोकतंत्र’ को बहाल किये जाने की प्रक्रिया के बारे में हम अब भी कम ही जान पाये हैं. कभी-कभा आ रही खबरें बताती हैं कि किस तरह लोग अभी चल रही कार्रवाई से आतंकित होकर भाग रहे हैं. लोगों के घर, स्वास्थ्य केंद्र, स्कूल जलाये जा रहे हैं. उपयोग में लाये जानेवाले पानी के स्रोत गंदे किये जा रहे हैं. और अनगिनत संख्या में लोगों को माओवादी कह कर प्रताड़ित किया जा रहा है. कुछ हफ़्ते पहले के लालगढ़ में ऐसा कुछ भी नहीं था. माओवादियों से ‘आतंकित’ और उनकी ‘यातनाएं सह रहे’ लालगढ़ के लोग निर्भीक होकर कहीं भी आ जा रहे थे. बच्चे स्कूल जा रहे थे. महिलाएं अपने जीवन में पहली बार बिना किसी डर के जंगलों में जा रही थीं. गांवों में शाम ढले घर से निकलने पर किसी को कोई डर नहीं था. अब ‘मुक्त’ लालगढ़ में ऐसा सोचा भी नहीं जा सकता.

लेकिन लालगढ़ में ‘मुक्ति’ से पहले की, लालगढ़ के लोगों के शब्दों में ‘आज़ादी’ हमेशा से नहीं रही. कुल सात महीने थे, जिनमें पुलिस और अर्धसैनिक बलों को लोगों ने बेहद शांतिपूर्ण तरीके से इलाके से बाहर कर दिया था. यह हुआ था इलाके में पुलिस के आम बायकाट से, जो शुरू हुआ था छोटोपेलिया की चिंतामणि मुर्मु की आंख पुलिस द्वारा फोड़ देने की घटना के बाद.

पूरी रिपोर्ट पढ़िए रविवार पर। यहां क्लिक करिए.

Related Posts by Categories



Widget by Hoctro | Jack Book
  1. 6 टिप्पणियां: Responses to “ जब ज़मीन पक रही थी : लालगढ़ से लौटकर एक रिपोर्ट ”

  2. By दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi on July 5, 2009 at 6:37 PM

    लालगढ़ का अनुभव सामने आने में और देश व दुनिया को उसे समझने में समय लगेगा।

  3. By अभिषेक मिश्रा on July 5, 2009 at 8:08 PM

    dinesh ji aap ki baat samajh nahi aai.lalgarh men to bat saf hai janta krantikari vikalp ki or dekh rahi hai.aur hamari sarkaron ko yah pasand nahi hai.yaha kheme saaf saaf hain aur koi sandeh nahin hai. buddhijeevion ki duvidha yah hai ki vo na to police daman ka samarthan karna chahte hain aur na hi maovadi jan pratirdh ka. is duvidha ne unhen napunsak bana diya hai.

    बौद्धिक वर्ग है क्रीतदास,
    किराये के विचारों का उद्भास।
    बड़े-बड़े चेहरों पर स्याहियाँ पुत गयीं।
    नपुंसक श्रद्धा
    सड़क के नीचे की गटर में छिप गयी,
    कहीं आग लग गयी, कहीं गोली चल गयी।

  4. By राज भाटिय़ा on July 6, 2009 at 12:33 AM

    हमे इस बारे कुछ नही पता, अब आप का लेख पढा तो टिपईया भी दे.

  5. By Science Bloggers Association on July 6, 2009 at 2:32 PM

    क्या कहा जाए इस सब पर।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

  6. By jeevan on July 6, 2009 at 7:29 PM

    lalgarh par Itani halki report. lalgarh itani halki kahani nahi hai jaise apne pesh karne ki koshish ki hai. reyaz ne likha hai ye sonchkar chinta hui. lagta hai ki reyaz pahle vala reyaz nahi hai.

  7. By rubina on July 10, 2009 at 2:18 PM

    इस तरह के मुद्दो पर अक्सर हमारे बुद्धिजीवि टिप्पणी करने से हिचकिचाते है.ऐसे मुद्दो पर वह चुप ही रहना पसंद करते है.क्योकि वह प्रगतिशीलता का भी जामा पहने रहना चाहते है और कोई खतरा भी नही उठाना चाहते है.

सुनिए : ऐ भगत सिंह तू जिंदा है/कबीर कला मंच


बीच सफ़हे की लड़ाई


“मुझे अक्सर गलत समझा गया है। इसमें कोई संदेह नहीं होना चाहिए कि मैं अपने देश को प्यार करता हूँ। लेकिन मैं इस देश के लोगों को यह भी साफ़ साफ़ बता देना चाहता हूँ कि मेरी एक और निष्ठा भी है जिस के लिए मैं प्रतिबद्ध हूँ। यह निष्ठा है अस्पृश्य समुदाय के प्रति जिसमे मैंने जन्म लिया है। ...जब कभी देश के हित और अस्पृश्यों के हित के बीच टकराव होगा तो मैं अस्पृश्यों के हित को तरजीह दूंगा। अगर कोई “आततायी बहुमत” देश के नाम पर बोलता है तो मैं उसका समर्थन नहीं करूँगा। मैं किसी पार्टी का समर्थन सिर्फ इसी लिए नहीं करूँगा कि वह पार्टी देश के नाम पर बोल रही है। ...सब मेरी भूमिका को समझ लें। मेरे अपने हित और देश के हित के साथ टकराव होगा तो मैं देश के हित को तरजीह दूंगा, लेकिन अगर देश के हित और दलित वर्गों के हित के साथ टकराव होगा तो मैं दलितों के हित को तरजीह दूंगा।”-बाबासाहेब आंबेडकर


फीड पाएं


रीडर में पढें या ई मेल से पाएं:

अपना ई मेल लिखें :




हाशिये में खोजें