हाशिया

बीच सफ़हे की लड़ाई

Andhera

Posted by Reyaz-ul-haque on 2/21/2007 06:33:00 PM


संन्यासी रेड की तसवीर

Posted by Reyaz-ul-haque on 2/19/2007 07:34:00 PM

Sculpture of a young artist and cultural activist Sanyasi Red.
courtsy: Lalit kala academy

Birds

Posted by Reyaz-ul-haque on 2/19/2007 07:11:00 PM

भूख

Posted by Reyaz-ul-haque on 2/18/2007 07:27:00 PM


होना एक कवि

Posted by Reyaz-ul-haque on 2/16/2007 06:54:00 PM

रेयाज़-उल-हक

मैंने कभी नहीं चाहा
एक कवि होना
जिसके बारे में लोग कहें
कि उसने लिखीं अनुपम कविताएं

मैंने चाहा है होना
दुश्मन की घात में छिपी
जनता की देह पर वरदी
उसके हाथों में बंदूक
जेब में कारतूस
होठों पर के गीत

किसान,
मज़दूर,
खेतिहर, चरवाहे, बढ़ई, कुम्हार, गड़रिये
कहें मेरे बारे में
कि उसने हमारे गीत गाये
उसने हमारी भूख को
और हमारे आंसुओं को शब्द दिये
मुखर की हमारी पीडा़
उसने नहीं बताया सिर्फ़ मरहम
वह लडा़
हमारी कतारों में
और उसका खून भी बहा
हमारे साथ
और हमने युद्धभूमि में
उसकी कविताएं सुनीं
बंदूकों की गरज के बीच

युद्ध के मैदान में मेरे शब्द
संगीनों की तरह चमकें
और पहचानें दुश्मन के
मोरचे लगे दिलों को
गोलियों की तरह

मैं चाहता हूं
कि लोग मेरे बारे में इस तरह सोचें
जैसे सोचता है
युद्ध के मैदान में एक सिपाही
दूसरे के बारे में

मेरा नाम

Posted by Reyaz-ul-haque on 2/14/2007 06:39:00 PM


कवितापाठ से पहले एक मिनट का मौन

Posted by Reyaz-ul-haque on 2/13/2007 07:18:00 PM

कविता पाठ से पहले एक मिनट का मौन

एमानुएल ओर्तीज

हिंदी अनुवाद- असद जैदी

इससे पहले कि मैं यह कविता पढ़ना शुरू करूँ
मेरी गुज़ारिश है कि हम सब एक मिनट का मौन रखें
ग्यारह सितम्बर को वर्ल्ड ट्रेड सेंटर और पेंटागन में मरे लोगों की याद में
और फिर एक मिनट का मौन उन सब के लिए जिन्हें प्रतिशोध में
सताया गया, क़ैद किया गया
जो लापता हो गए जिन्हें यातनाएं दी गईं
जिनके साथ बलात्कार हुए एक मिनट का मौन
अफ़गानिस्तान के मज़लूमों और अमरीकी मज़लूमों के लिए

और अगर आप इज़ाजत दें तो

एक पूरे दिन का मौन
हज़ारों फिलस्तीनियों के लिए जिन्हें उनके वतन पर दशकों से काबिज़
इस्त्राइली फ़ौजों ने अमरीकी सरपरस्ती में मार डाला
छह महीने का मौन उन पन्द्रह लाख इराकियों के लिए, उन इराकी बच्चों के लिए,
जिन्हें मार डाला ग्यारह साल लम्बी घेराबन्दी, भूख और अमरीकी बमबारी ने

इससे पहले कि मैं यह कविता शुरू करूँ

दो महीने का मौन दक्षिण अफ़्रीका के अश्वेतों के लिए जिन्हें नस्लवादी शासन ने
अपने ही मुल्क में अजनबी बना दिया। नौ महीने का मौन
हिरोशिमा और नागासाकी के मृतकों के लिए, जहाँ मौत बरसी
चमड़ी, ज़मीन, फ़ौलाद और कंक्रीट की हर पर्त को उधेड़ती हुई,
जहाँ बचे रह गए लोग इस तरह चलते फिरते रहे जैसे कि जिंदा हों।
एक साल का मौन विएतनाम के लाखों मुर्दों के लिए --
कि विएतनाम किसी जंग का नहीं, एक मुल्क का नाम है --
एक साल का मौन कम्बोडिया और लाओस के मृतकों के लिए जो
एक गुप्त युद्ध का शिकार थे -- और ज़रा धीरे बोलिए,
हम नहीं चाहते कि उन्हें यह पता चले कि वे मर चुके हैं। दो महीने का मौन
कोलम्बिया के दीर्घकालीन मृतकों के लिए जिनके नाम
उनकी लाशों की तरह जमा होते रहे
फिर गुम हो गए और ज़बान से उतर गए।

इससे पहले कि मैं यह कविता शुरू करूँ।

एक घंटे का मौन एल सल्वादोर के लिए
एक दोपहर भर का मौन निकारागुआ के लिए
दो दिन का मौन ग्वातेमालावासिओं के लिए
जिन्हें अपनी ज़िन्दगी में चैन की एक घड़ी नसीब नहीं हुई।
४५ सेकिंड का मौन आकतिआल, चिआपास में मरे ४५ लोगों के लिए,
और पच्चीस साल का मौन उन करोड़ों गुलाम अफ्रीकियों के लिए
जिनकी क़ब्रें समुन्दर में हैं इतनी गहरी कि जितनी ऊंची कोई गगनचुम्बी इमारत भी न होगी।
उनकी पहचान के लिए कोई डीएनए टेस्ट नहीं होगा, दंत चिकित्सा के रिकॉर्ड नहीं खोले जाएंगे।
उन अश्वेतों के लिए जिनकी लाशें गूलर के पेड़ों से झूलती थीं
दक्षिण, उत्तर, पूर्व और पश्चिम

एक सदी का मौन

यहीं इसी अमरीका महाद्वीप के करोड़ों मूल बाशिन्दों के लिए
जिनकी ज़मीनें और ज़िन्दगियाँ उनसे छीन ली गईं
पिक्चर पोस्ट्कार्ड से मनोरम खित्तों में --
जैसे पाइन रिज वूंडेड नी, सैंड क्रीक, फ़ालन टिम्बर्स, या ट्रेल ऑफ टियर्स।
अब ये नाम हमारी चेतना के फ्रिजों पर चिपकी चुम्बकीय काव्य-पंक्तियाँ भर हैं।

तो आप को चाहिए खामोशी का एक लम्हा ?
जबकि हम बेआवाज़ हैं
हमारे मुँहों से खींच ली गई हैं ज़बानें
हमारी आखें सी दी गई हैं
खामोशी का एक लम्हा
जबकि सारे कवि दफनाए जा चुके हैं
मिट्टी हो चुके हैं सारे ढोल।

इससे पहले कि मैं यह कविता शुरू करूँ
आप चाहते हैं एक लम्हे का मौन
आपको ग़म है कि यह दुनिया अब शायद पहले जैसी नहीं रही रह जाएगी
इधर हम सब चाहते हैं कि यह पहले जैसी हर्गिज़ न रहे।
कम से कम वैसी जैसी यह अब तक चली आई है।

क्योंकि यह कविता 9/11 के बारे में नहीं है
यह 9/10 के बारे में है
यह 9/9 के बारे में है
9/8 और 9/7 के बारे में है
यह कविता 1492 के बारे में है।[1]

यह कविता उन चीज़ों के बारे में है जो ऐसी कविता का कारण बनती हैं।
और अगर यह कविता 9/11 के बारे में है, तो फिर :
यह सितम्बर 9, 1971 के चीले देश के बारे में है,
यह सितम्बर 12, 1977 दक्षिण अफ़्रीका और स्टीवेन बीको के बारे में है,
यह 13 सितम्बर 1971 और एटिका जेल, न्यू यॉर्क में बंद हमारे भाइयों के बारे में है।

यह कविता सोमालिया, सितम्बर 14, 1992 के बारे में है।

यह कविता हर उस तारीख के बारे में है जो धुल-पुँछ रही है कर मिट जाया करती है।
यह कविता उन 110 कहानियों के बारे में है जो कभी कही नहीं गईं, 110 कहानियाँ
इतिहास की पाठ्यपुस्तकों में जिनका कोई ज़िक्र नहीं पाया जाता,
जिनके लिए सीएनएन, बीबीसी, न्यू यॉर्क टाइम्स और न्यूज़वीक में कोई गुंजाइश नहीं निकलती।
यह कविता इसी कार्यक्रम में रुकावट डालने के लिए है।

आपको फिर भी अपने मृतकों की याद में एक लम्हे का मौन चाहिए ?
हम आपको दे सकते हैं जीवन भर का खालीपन :
बिना निशान की क़ब्रें
हमेशा के लिए खो चुकी भाषाएँ
जड़ों से उखड़े हुए दरख्त, जड़ों से उखड़े हुए इतिहास
अनाम बच्चों के चेहरों से झांकती मुर्दा टकटकी
इस कविता को शुरू करने से पहले हम हमेशा के लिए ख़ामोश हो सकते हैं
या इतना कि हम धूल से ढँक जाएँ
फिर भी आप चाहेंगे कि
हमारी ओर से कुछ और मौन।

अगर आपको चाहिए एक लम्हा मौन
तो रोक दो तेल के पम्प
बन्द कर दो इंजन और टेलिविज़न
डुबा दो समुद्री सैर वाले जहाज़
फोड़ दो अपने स्टॉक मार्केट
बुझा दो ये तमाम रंगीन बत्तियां
डिलीट कर दो सरे इंस्टेंट मैसेज
उतार दो पटरियों से अपनी रेलें और लाइट रेल ट्रांजिट।

अगर आपको चाहिए एक लम्हा मौन, तो टैको बैल[2] की खिड़की पर ईंट मारो,
और वहां के मज़दूरोंका खोया हुआ वेतन वापस दो। ध्वस्त कर दो तमाम शराब की दुकानें,
सारे के सारे टाउन हाउस, व्हाइट हाउस, जेल हाउस, पेंटहाउस और प्लेबॉय।

अगर आपको चाहिए एक लम्हा मौन
तो रहो मौन ''सुपर बॉल'' इतवार के दिन[3]
फ़ोर्थ ऑफ़ जुलाई के रोज़[4]
डेटन की विराट 13-घंटे वाली सेल के दिन[5]
या अगली दफ़े जब कमरे में हमारे हसीं लोग जमा हों
और आपका गोरा अपराधबोध आपको सताने लगे।

अगर आपको चाहिए एक लम्हा मौन
तो अभी है वह लम्हा
इस कविता के शुरू होने से पहले।

( 11 सितम्बर, 2002 )

फ़ुटनोट :

[1] 1492 के साल कोलम्बस अमरीकी महाद्वीप पर उतरा था।
[2] टैको बैल : अमरीका की एक बड़ी फास्ट फ़ूड चेन है।
[3] ''सुपर बॉल'' सन्डे : अमरीकी फुटबॉल की राष्ट्रीय चैम्पियनशिप के फाइनल का दिन।
इस दिन अमरीका में गैर-सरकारी तौर पर राष्ट्रीय छुट्टी हो जाती है।
[4] फ़ोर्थ ऑफ़ जुलाई : अमरीका का ''स्वतंत्रता दिवस'' और राष्ट्रीय छुट्टी का दिन। 4 जुलाई 1776 को अमरीका में ,''डिक्लरेशन ऑफ इंडिपेंडेंस'' पारित किया गया था।
[5] डेटन : मिनिओपोलिस नामक अमरीकी शहर का मशहूर डिपार्टमेंटल स्टोर।

एमानुएल ओर्तीज़ मेक्सिको-पुएर्तो रीको मूल के युवा अमरीकी कवि हैं। वह एक कवि-संगठनकर्ता हैं और आदि-अमरीकी बाशिन्दों, विभिन्न प्रवासी समुदायों और अल्पसंख्यक अधिकारों के लिए सक्रिय कई प्रगतिशील संगठनों से जुड़े हैं।

असद जैदी हिंदी के प्रख्यात कवि हैं। उनके काव्य संग्रहों में सामान की तलाश और बहनें तथा अन्य कविताएं महत्वपूर्ण हैं।


































































इस तरह खत्म होते हैं लोग

Posted by Reyaz-ul-haque on 2/12/2007 12:40:00 AM

इस तरह खत्म होते हैं लोग
रेयाज़-उल-ह
यह मेरे घर के सामने के पाकड़ पर
नयी सुलंगियों के आने के दिन थे
और घर के पिछवाड़े के पोखर में
मल्लाहों के उतरने के दिन
जब होली के आस-पास
दिन भर वे काले-कलूटे मल्लाह
पीठ पर पसीना चमकाते
हिंड़ोड़ कर रख देते सारा पोखर
और मार निकालते
टोकरी भर कमसिन मछलियां
...जो बांट दी जातीं
मुहल्ले भर में
मल्लाहों को मेहनताना देने के बाद

उस दिन पूरा मुहल्ला
भर जाता करुआइन गंध से

...और बच्चे
उतने बच्चे तो कभी न हुए मेरे मुहल्ले में
न होंगे कभी
एक साथ,
जिनके खेलों से
फ़ुदक उठता था पूरा मुहल्ला
सचमुच की गली में पिट्टो
आइस-पाइस, चोर-चोर
अंधा टोपी...और चिरैया मेरो
उन नन्हीं-सी लकीरों के निशान
अब भी होंगे कहीं-न-कहीं
किसी ईंट-खपरे के नीचे
...तब क्रिकेट का ज़ोर इतना न था
...और लड़कियां!
पूरे मुहल्ले में भरी पड़ी थीं लड़कियां
जैसे किताबों में भरे रहते हैं शब्द
निश्शब्द, मगर वाचाल
सब साथ मिल कर हंसतीं
तो पोखर में तरंगें उठने लगतीं
सब साथ मिल कर गातीं
तो लगता
आ गया मुहर्रम का महीना
या किसी की शादी का दिन

एक चांद भी था मेरे मुहल्ले की छत पर
जो आता हर तीसवें दिन
पूरा का पूरा
जैसे आते हैं साईं त्योहार के त्योहार
मुंडेरों पर आते हैं कौवे
जैसे आते थे मेहमान
जब-तब, हमेशा

खेत
घर के चौखटे तक बिछे हुए थे
और घर
अपनी छप्पर में खुंसे हुए
हंसुए, खुरपी और छाता के साथ
ताख पर होता शीशा, दंतुअन, सिंदूर की डिब्बी
दीया

था एक पागल भी
महम्मद अली
गाता था जोशीले गीत
और हगता था खुलेआम
लोगों के दरवाज़ों पर
हर घर से मांगता दो रोटियां
इस तरह मानों मांग रहा हो
अपनी खाली कोटरों के लिए
दो आंखें

होतीं और भी कई चीज़ें घरों में
जितनी होतीं घरों से बाहर
तब दीवारें घर की हद नहीं हुआ करती थीं

शाम को धुएं से घिरे छप्परों
और भूसा भरे नांदोंवाला मेरा गांव
जिसके कोने अंतरे से उठती थी हुक्के की गुड़-गुड़

और थे सारे के सारे लोग
मुकम्मल चेहरे के साथ

और एक दिन चिपका दी गयी फ़ेहरिश्त
लोगों की
और कुछ गुनाहों की
जो उन्होंने किये थे

...और फिर
खत्म था सबकुछ
जैसे कभी
रहा ही न हो
एक हरा पत्ता भी
जला दिये गये घर
मानों हों ठूंठ-निकम्मे
राख यूं उड़ती रही
मानों घर से निकाल दिया गया
कुत्ता हो कोई

लोग मारे गये बेआवाज़
जैसे मर जाते हैं घोंघे
बिना चीखे

अपनों ने मारा उन्हें
अपनों ने खत्म किया
और वे चीख नहीं पाये

अब हैं केवल पीले पत्ते
और सन्नाटा.

उठ शहरज़ाद

Posted by Reyaz-ul-haque on 2/02/2007 11:00:00 PM

उठ शहरज़ाद
रेयाज़-उल-हक
हज़ार रातों के किस्से
अब सो चुके हैं
और ज़ालिम बादशाह
एक बार फिर जग पड़ा है


बेबीलोन के पुराने खंडहरों पर
काली परछाइयां नाच रही हैं

दज़ला और फ़ुरात का रंग
हो चुका है रक्तिम
लहज़ीब और तमद्दुन के शहर को
तहज़ीब और
तमद्दुन की दुहाई देनेवालों ने
बरबाद करने की ठान ली है

तेरी कदीम गलियों में अब
माओं की लोरियां नहीं
भूखे और बीमार बच्चों की चीखें गूंजती हैं
तेरी फ़िज़ा में लोकगीतों की पुरकैफ़ सरगम
नहीं गूंजती अब
इनकी जगह बमबार हवाई जहाजों के सायरन
और तोपों की गरज ने ले ली है
यहां की हवा में ज़िन्दगी की खुशबू नहीं
बारूद और मौत की बदबू है
लोग अब जीने के लिए नहीं जीते
बल्कि मरने के लिए,
तेरी खुद्दार और आज़ाद ज़मीं
सात समन्दर पार से आये लुटेरे ज़ालिमों की कैद में है

और शहज़ाद
तू कहां है?

कभी अपने शहर को बचाने की खातिर तुमने
हज़ार रातों तक जग कर
एक ज़ालिम बादशाह को सुनायी थीं हज़ार कहानियां
और संवार दी थी तकदीर अपने शहर की

आज इन मासूम ज़िंदगियों का नवश्ता तेरे हाथ में है
आज फिर एक ज़ालिम बदशाह उठ खड़ा हुआ है
और खून में डुबो रहा है तेरे शहर को
उठ शहरज़ाद उठ
और छेड़ फिर से हज़ार रातों के नयी किस्से
ताकि बच सकें ये मासूम ज़िन्दगियां
इन मासूम होठों पर हंसी
ममता की लोरियां
मांओं के सीनों में दूध
धरती की कोख में अनाज
दज़ला-फ़ुरात में पानी
बेबीलोन की तहज़ीब
कदीम खंडहर
और अलिफ़ लैला की कहानियां

...इससे पहले कि देर हो जाये
शहरज़ाद.


सुनिए : ऐ भगत सिंह तू जिंदा है/कबीर कला मंच


बीच सफ़हे की लड़ाई


“मुझे अक्सर गलत समझा गया है। इसमें कोई संदेह नहीं होना चाहिए कि मैं अपने देश को प्यार करता हूँ। लेकिन मैं इस देश के लोगों को यह भी साफ़ साफ़ बता देना चाहता हूँ कि मेरी एक और निष्ठा भी है जिस के लिए मैं प्रतिबद्ध हूँ। यह निष्ठा है अस्पृश्य समुदाय के प्रति जिसमे मैंने जन्म लिया है। ...जब कभी देश के हित और अस्पृश्यों के हित के बीच टकराव होगा तो मैं अस्पृश्यों के हित को तरजीह दूंगा। अगर कोई “आततायी बहुमत” देश के नाम पर बोलता है तो मैं उसका समर्थन नहीं करूँगा। मैं किसी पार्टी का समर्थन सिर्फ इसी लिए नहीं करूँगा कि वह पार्टी देश के नाम पर बोल रही है। ...सब मेरी भूमिका को समझ लें। मेरे अपने हित और देश के हित के साथ टकराव होगा तो मैं देश के हित को तरजीह दूंगा, लेकिन अगर देश के हित और दलित वर्गों के हित के साथ टकराव होगा तो मैं दलितों के हित को तरजीह दूंगा।”-बाबासाहेब आंबेडकर


फीड पाएं


रीडर में पढें या ई मेल से पाएं:

अपना ई मेल लिखें :




हाशिये में खोजें