हाशिया

बीच सफ़हे की लड़ाई

अपना देश अब एक खस्सी है

Posted by Reyaz-ul-haque on 4/25/2007 01:17:00 AM

नंदीग्राम पर सबसे मुखर विरोध बांग्ला में हुआ और वहां अनगिनत रचनाएं सामने आयीं. हमने पहले भी कई रचनाएं दी हैं. आज एक और कविता. हालांकि यह सिंगूर और नंदीग्राम में शुरुआती दौर में हुई घटनाओं के बाद लिखी गयी थी. अनुवाद विश्वजीत सेन का है. इसके साथ ही नंदीग्राम पर आयी नयी फ़िल्म भी देखना न भूलें. यह फ़िल्म उपलब्ध करवाने के लिए हम पत्रकार मित्र तथागत भट्टाचार्य और विश्वजीत सेन के आभारी हैं.






प्रतुल मुखोपाध्याय

अपना देश अब एक खस्सी है
जिसकी खाल उतार ली गयी है
मुंड से वंचित प्रेत जैसा
उल्टा लटक रहा है वह
टांग, सीना, रांग, चांप, गरदन
आपको किस हिस्से की ज़रूरत है
खुल्लमखुल्ला कहना होगा

इसी तरह बिकेगा अपना देश
उसके कुछ हिस्से खास बन जायेंगे
खास नियम, खास अर्थतंत्र
खास जगह, खास पहचान

'खास' मतलब आप उसे विदेशी भी कह सकते हैं
उन जगहों में देश का कानून खामोश ही रहेगा
वहां बजेगा वैश्वीकरण का बाजा
अपना देश भी सेज़ का भेस पहनेगा

अब केवल विकास का, उपभोक्तावाद का मंत्र
बाकी सब कुछ भूल जाना ही बेहतर...
गरीब अगर मिट भी जायें तो हर्ज़ क्या है
नये युग का दरवाज़ा जो खुल रहा है

क्या कहा आपने? देश अपनी मां समान है?
हा हा हा हा! कहां हैं आप महाशय?
क्यों पालते हैं झूठा आवेग?
समझना होगा अपना देश भी
बिकनेवाली चीज़ है

अपना देश अब एक खस्सी है
जिसकी खाल उतार ली गयी है
सब कुछ बरबाद हुआ-यह शोर किनका है?
अपना देश अब धनवालों की तश्तरियों में
परोसा जा रहा है
इसकी खूशबू तो देखिए
इसे कितने प्रकार से पकाया जा सकता है?

Related Posts by Categories



Widget by Hoctro | Jack Book
  1. 0 टिप्पणियां: Responses to “ अपना देश अब एक खस्सी है ”

सुनिए : ऐ भगत सिंह तू जिंदा है/कबीर कला मंच


बीच सफ़हे की लड़ाई


“मुझे अक्सर गलत समझा गया है। इसमें कोई संदेह नहीं होना चाहिए कि मैं अपने देश को प्यार करता हूँ। लेकिन मैं इस देश के लोगों को यह भी साफ़ साफ़ बता देना चाहता हूँ कि मेरी एक और निष्ठा भी है जिस के लिए मैं प्रतिबद्ध हूँ। यह निष्ठा है अस्पृश्य समुदाय के प्रति जिसमे मैंने जन्म लिया है। ...जब कभी देश के हित और अस्पृश्यों के हित के बीच टकराव होगा तो मैं अस्पृश्यों के हित को तरजीह दूंगा। अगर कोई “आततायी बहुमत” देश के नाम पर बोलता है तो मैं उसका समर्थन नहीं करूँगा। मैं किसी पार्टी का समर्थन सिर्फ इसी लिए नहीं करूँगा कि वह पार्टी देश के नाम पर बोल रही है। ...सब मेरी भूमिका को समझ लें। मेरे अपने हित और देश के हित के साथ टकराव होगा तो मैं देश के हित को तरजीह दूंगा, लेकिन अगर देश के हित और दलित वर्गों के हित के साथ टकराव होगा तो मैं दलितों के हित को तरजीह दूंगा।”-बाबासाहेब आंबेडकर


फीड पाएं


रीडर में पढें या ई मेल से पाएं:

अपना ई मेल लिखें :




हाशिये में खोजें