हाशिया

बीच सफ़हे की लड़ाई

मंडल रिपोर्ट : कब क्या हुआ

Posted by Reyaz-ul-haque on 3/30/2007 03:59:00 AM

मंडल रिपोर्ट : कब क्या हुआ


प्रदर्शन
आरक्षण की घोषणा होते ही प्रदर्शनों की शुरुआत हो गई. कुछ पक्ष में और ज़्यादा विरोध में
20 दिसंबर 1978

सामाजिक शैक्षणिक रूप से पिछड़े वर्गों की स्थिति की समीक्षा के लिए मोरारजी देसाई सरकार ने बिंदेश्वरी प्रसाद मंडल की अध्यक्षता में छह सदस्यीय पिछड़ा वर्ग आयोग के गठन की घोषणा की. यह मंडल आयोग के नाम से चर्चित हुआ.

1 जनवरी 1978
आयोग के गठन की अधिसूचना जारी.

दिसंबर 1980
मंडल आयोग ने गृह मंत्री ज्ञानी जैल सिंह की रिपोर्ट सौंपी. इसमें अन्य पिछड़े वर्गों को 27 फीसदी आरक्षण की सिफारिश.

1982

रिपोर्ट संसद में पेश.

1989
लोकसभा चुनाव में जनता दल ने आयोग की सिफारिशों को चुनाव घोषणापत्र में शामिल किया.

7 अगस्त 1990
विश्वनाथ प्रताप सिंह ने रिपोर्ट लागू करने की घोषणा की.

9 अगस्त 1990
विश्वनाथ प्रताप सिंह से मतभेद के बाद उपप्र्धानमंत्री देवीलाल ने इस्तीफ़ा दिया.

10 अगस्त 1990
आयोग की सिफारिशों के तहत सरकारी नौकरियों में आरक्षण की व्यवस्था करने के ख़िलाफ़ देशव्यापी विरोध प्रदर्शन शुरू.

13 अगस्त 1990
मंडल आयोग की सिफारिश लागू करने की अधिसूचना जारी.

14 अगस्त 1990
अखिल भारतीय आरक्षण विरोधी मोर्चे के अध्यक्ष उज्जवल सिंह ने आरक्षण प्रणाली के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की.

19 सितंबर 1990
दिल्ली विश्वविद्यालय के छात्र एसएस चौहान ने आरक्षण के विरोध में आत्मदाह किया. एक अन्य छात्र राजीव गोस्वामी बुरी तरह झुलस गए.

17 जनवरी 1991
केंद्र सरकार ने पिछड़े वर्गों की सूची तैयार की.

वीपी सिंह
वीपी सिंह सरकार ने आयोग की सिफ़ारिशें लागू करने की घोषणा की थी

8 अगस्त 1991
रामविलास पासवान ने केंद्र सरकार पर आयोग की सिफ़ारिशों को पूर्ण रूप से लागू करने में विफलता का आरोप लगाते हुए जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन किया. पासवान गिरफ़्तार किए गए.

25 सितंबर 1991
नरसिंह राव सरकार ने सामाजिक शैक्षणिक रूप से पिछड़े वर्गों की पहचान की. आरक्षण की सीमा बढ़ाकर 59.5 प्रतिशत करने का फ़ैसला. इसमें ऊँची जातियों के अति पिछड़ों को भी आरक्षण देने का प्रावधान किया गया.

24 सितंबर 1990
पटना में आरक्षण विरोधियों और पुलिस के बीच झड़प. पुलिस फायरिंग में चार छात्रों की मौत.

25 सितंबर 1991
दक्षिण दिल्ली में आरक्षण का विरोध कर रहे छात्रों पर पुलिस फायरिंग में दो की मौत.

1 अक्टूबर 1991
सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से आरक्षण के आर्थिक आधार का ब्यौरा माँगा.

2 अक्टूबर 1991
आरक्षण विरोधियों और समर्थकों के बीच कई राज्यों में झड़प. गुजरात में शैक्षणिक संस्थान बंद किए गए.

10 अक्टूबर 1991
इंदौर के राजवाड़ा चौक पर स्थानीय छात्र शिवलाल यादव ने आत्मदाह की कोशिश की.

30 अक्टूबर 1991
मंडल आयोग की सिफारिशों के ख़िलाफ़ दायर याचिका की सुनवाई कर रही सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने यह मामला नौ न्यायाधीशों की पीठ को सौंप दिया.

17 नवंबर 1991
राजस्थान, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश और उड़ीसा में एक बार फिर उग्र विरोध प्रदर्शन. उत्तर प्रदेश में एक सौ गिरफ़्तार. प्रदर्शनकारियों ने गोरखपुर में 16 बसों में आग लगाई.

सुप्रीम कोर्ट
सुप्रीम कोर्ट ने भी मंडल आयोग की रिपोर्ट को लागू करने की अनुमति दे दी थी

19 नवंबर 1991
दिल्ली विश्वविद्यालय के उत्तरी परिसर में पुलिस और छात्रों के बीच झड़प. लगभग 50 लाख घायल. मुरादाबाद में दो छात्रों ने आत्मदाह का प्रयास किया.

16 नवंबर 1992
सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फ़ैसले में मंडल आयोग की सिफ़ारिशें लागू करने के फ़ैसले को वैध ठहराया. साथ ही आरक्षण की अधिकतम सीमा 50 प्रतिशत रखने और पिछड़ी जातियों के उच्च तबके को इस सुविधा से अलग रखने का निर्देश दिया.

8 सितंबर 1993
केंद्र सरकार ने नौकरियों में पिछड़े वर्गों को 27 फीसदी आरक्षण देने की अधिसूचना जारी की.

20 सितंबर 1993
दिल्ली के क्राँति चौक पर राजीव गोस्वामी ने इसके ख़िलाफ़ एक बार फिर आत्मदाह का प्रयास किया.

23 सितंबर 1993
इलाहाबाद की इंजीनियरिंग की छात्रा मीनाक्षी ने आरक्षण व्यवस्था के विरोध में आत्महत्या की.

20 फरवरी 1994
मंडल आयोग की रिफारिशों के तहत वी राजशेखर आरक्षण के जरिए नौकरी पाने वाले पहले अभ्यार्थी बने. समाज कल्याण मंत्री सीताराम केसरी ने उन्हें नियुक्ति पत्र सौंपा.

1 मई 1994
गुजरात में राज्य सरकार की नौकरियों में मंडल आयोग की सिरफारिशों के तहत आरक्षण व्यवस्था लागू करने का फ़ैसला.

2 सितंबर 1994
मसूरी के झुलागढ़ इलाके में आरक्षण विरोधी.

प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच संघर्ष में दो महिलाओं समेत छह की मौत, 50 घायल.

प्रदर्शन
लंबे समय तक विरोध प्रदर्शन चलता रहा

13 सितंबर 1994
उत्तरप्रदेश में सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी द्वारा घोषित राज्यव्यापी बंद के दौरान भड़की हिंसा में पाँच मरे.

15 सितंबर 1994
बरेली कॉलेज के छात्र उदित प्रताप सिंह ने आत्महत्या का प्रयास किया.

11 नवंबर 1994
सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार की नौकरियों में 73 फीसदी आरक्षण के कर्नाटक सरकार के फ़ैसले पर रोक लगाई.

24 फरवरी 2004
आरक्षण विरोधी आंदोलन के अगुआ रहे राजीव गोस्वामी का लंबी बीमारी के बाद निधन.

बीबीसी से साभार

Related Posts by Categories



Widget by Hoctro | Jack Book
  1. 2 टिप्पणियां: Responses to “ मंडल रिपोर्ट : कब क्या हुआ ”

  2. By RAM AHIRWAR on July 4, 2013 at 12:08 AM

    CONTACT DETAILS
    AKHIL BHARTIYA RAVIDASIA DHARAM SANGTHAN

    S. NO. NAME ADDRESS MOBILE NO.
    1 SANT SURINDER DAS BAWA JI MAHARAJ DERA SACH KHAND , DERA SANTSARWAN DAS JI , JALANDHAR , PUNJAB 08112708234
    09417238980
    2 SANT MANDEEP DAS JI MAHARAJ SANT SIROMANI GURU RAVIDAS JANAM STHAN MANDIR SEER GOVARDHANPUR , KASHI VARANSHI, U.P. +91-9616920804
    3 SHRI SUKHDEV WAGHMAARE MAHARAJ JI SANT SIROMANI GURU RAVIDAS TISRE DHAM , KATARAJ , PUNE, HAMARSHTHRA +91 9422303887
    4 SHRI BABBU MAHARAJ JI GURU RAVIDAS MANDIR, SEERSH GARH, HARIYANA
    5 S. DASRATH JI S/O NARGO JI H.NO. 16-57, NEAR INDIRA CONVENT HIGH SCHOOL, BOMBAY COLONY RAMCHANDRA PURAM, BHEL , HYDRABAD, A.P. +91-9848635771

    6 WAMSA TILAK STATE PRESIDENT A.P. 09000849789
    7 ROHIDAS WAGHMAARE HYDRABAD A.P. 09030273721
    8 SANT ROHIDAS SMIRITI MANDIR, SECTOR -5, JAGIYA PACHAN , GANDHI NAGAR GUJRAT santrohidasmandir@yahoo.co.in
    078-23238407
    9 SHRI LAXMAN MUDALE JI MAHARAJ SHRI GURU RAVIDAS MAHARAJ MANDIR, VEER SAVARKAR GARDEN, PRADHIKARAN , NIGDI , PUNE MAHARSTHRA +91- 9595953410
    10 SANT PANCHAM DAS JI KARRAH PUR, KASHIDAS MAHARAJ ASHARAM, SAGAR , M.P. 09303224917
    11 SHRI JANARDHAN RAM JI
    SANYUKTA MAHAMANTRI
    BIHAR POLICE 30/48, NEW CID COLONY,
    LAL BAHADUR SASHTHRI NAGAR PATNA-23, BIHAR 8294587183
    O8294587183
    12 DHANNA LAL JODWAL INDORE M.P. 09009034435
    13 MR. S. P. CHAMAAR SHAHEB CHAMAAR BHAWAN , DR, AMBEDKAR MARG, V.+ P.O.- KUNDALI , DISTT. SONIPAT, HARIYANA 13028 09467668541
    14 SHRI HARI RAM CHOUDHARY NEAR MPEB REST HOUSE,
    NEW MAKRONIYA, SAGAR, M.P. 47004 +91-9977697214
    15 BHASKAR JANNU AANADAM H.NO. 14/8/135, NIJHAM PURA , WARANGAL, 506002
    A.P. 09989415938
    16 VISHWA NATH S/O. SHRI BHAJNU RAM H.NO. 101/4, SUHNA MUHALLA (RAVI NAGAR)
    DISTT. MANDI HIMANCHAL PRADESH 1750001 09418074557
    17 SANJAY KUMAR SANT NO. 43 TYPE 2ND, NEW BLOCK EAST CHOTA SHIMLA , HIMACHAL PRADESH 09418456345
    18 PRAMOD JI SIKANDRA BAD A.P. 09866349376
    19 ACHUT RAO BHAITE BOMBAY MAHARSTHARA 09870580728
    20 VENKAT RAO DUDHAMBE NANDED MAHARSTHARA 09822619463
    21 SIDDHU B CHAOHAL HOSHIYAR PUR PUNJAB 09356269170
    22 SURYA KANT TIKEKAR VILLAGE VASWA KALYAN
    DISTT- BIDAR,
    KARNATKA 09632020463
    23 BALBIR SINGH SIDDHU SANT GARH DELHI 09911086486

    24 B.D. PARMAR SHAHAB MAHESANA, NORTH GUJRAT 09998457183
    25 JAY PRAKASH KANYA KUMARI , TAMILNADU 09442608416

    26 P. RAJGOPAL BANK MANAGER , CENTRAL BANK OF INDIA, TAMIL NADU 09444840191
    09244620689
    08750658350
    09486953366
    27 DELHI JHANDEWALAN 09417333126
    07206529437
    09837664357
    09467528316
    09897314357
    09850026076
    28 R.L. PARDEEP(IAS RETD.) 4182,B/5-6
    VASANT KUNJ NEW DELHI-110070 09968473322
    LANDLINE 26123435

  3. By Anonymous on August 20, 2013 at 5:15 PM

    SUNIL HAMBARDE NANDED 9145758770

सुनिए : ऐ भगत सिंह तू जिंदा है/कबीर कला मंच


बीच सफ़हे की लड़ाई


“मुझे अक्सर गलत समझा गया है। इसमें कोई संदेह नहीं होना चाहिए कि मैं अपने देश को प्यार करता हूँ। लेकिन मैं इस देश के लोगों को यह भी साफ़ साफ़ बता देना चाहता हूँ कि मेरी एक और निष्ठा भी है जिस के लिए मैं प्रतिबद्ध हूँ। यह निष्ठा है अस्पृश्य समुदाय के प्रति जिसमे मैंने जन्म लिया है। ...जब कभी देश के हित और अस्पृश्यों के हित के बीच टकराव होगा तो मैं अस्पृश्यों के हित को तरजीह दूंगा। अगर कोई “आततायी बहुमत” देश के नाम पर बोलता है तो मैं उसका समर्थन नहीं करूँगा। मैं किसी पार्टी का समर्थन सिर्फ इसी लिए नहीं करूँगा कि वह पार्टी देश के नाम पर बोल रही है। ...सब मेरी भूमिका को समझ लें। मेरे अपने हित और देश के हित के साथ टकराव होगा तो मैं देश के हित को तरजीह दूंगा, लेकिन अगर देश के हित और दलित वर्गों के हित के साथ टकराव होगा तो मैं दलितों के हित को तरजीह दूंगा।”-बाबासाहेब आंबेडकर


फीड पाएं


रीडर में पढें या ई मेल से पाएं:

अपना ई मेल लिखें :




हाशिये में खोजें